ब्रिटिश वैज्ञानिक रिचर्ड ब्राउनिंग ने किया आयरन मेन की तरह उड़ने वाले सूट का अविष्कार - British Inventor Richard Browning Made Flying Suit - Nazariya Now

HIGHLIGHTS

Saturday, April 29, 2017

ब्रिटिश वैज्ञानिक रिचर्ड ब्राउनिंग ने किया आयरन मेन की तरह उड़ने वाले सूट का अविष्कार - British Inventor Richard Browning Made Flying Suit


मार्वेल्स की मूवी में आयरन मेन को हवा में उड़ते हुए देखकर सब यही सोचते है की काश हमारे पास भी ऐसा ही सूट होता।  अभी तक यह सिर्फ एक कल्पना ही था लेकिन अब ब्रिटिश वैज्ञानिक  रिचर्ड ब्राउनिंग ने इस कल्पना को हक़ीक़त में बदल दिया है।  रिचर्ड ब्राउनिंग ने  आयरन मेन फिल्म को देखने के बाद इससे इतना प्रभावित हुए की उन्होंने इस स्पेशल सूट पर काम करना शुरू कर दिया।  




कनाडा में किए अपने डेमंस्ट्रेशन में  रिचर्ड ब्राउनिंग ने  जमीन से थोड़ा ऊपर एक मिनट तक उड़ान भर कर दिखाई। रिचर्ड ब्राउनिंग  ने  बताया की यह सूट किस तरह काम करता है।  उनके अनुसार इस सूट में 4 छोटे जेट इंजन ( थ्रस्टर्स) लगे हुए हैं जो पीठ और हाथों से बंधे एक्सोस्केलिटन (शरीर के बहरी ढाँचे ) से जुड़े होते हैं। इन जेट को हाथों की मूवमेंट से कंट्रोल किया जाता है। सूट में हेलमेट के अंदर एक डिस्प्ले होता है जो इन इंजन के ईंधन की जानकारी देता है।  



 रिचर्ड ब्राउनिंग का 55 सेकंड का एक वीडियो भी यूट्यूब पर अपलोड हुआ है जिसमे वो अपने फ्लाइंग सूट को पहनकर उड़ते हुए नज़र आ रहे हैं। 

 

रिचर्ड ब्राउनिंग पेशे से इंजीनियर है और एथलीट भी हैं।  वह अपने पिता से प्रेरित हैं जो ऐरोनॉटिकल इंजिनियर थे।  रिचर्ड ब्राउनिंग ने इस सूट को बनाने कई तरह के प्रयोग किये लगातार मेहनत की।  पहली बार सूट की टेस्टिंग की थी तब उनके सूट ने 6 सेकंड  तक हवा में उड़ान भरी,  पहली उड़ान के बाद उनके आत्मविश्वास और बड़ा और फिर उन्होंने सूट के उड़ान के समय को बढ़ाने के लिए प्रयोग किये।  इस सूट को पहनकर उड़ने के प्रयास में कई बार वो ज़मीन पर गिरे और उन्हें चोटें भी लगी लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और लगातार प्रयास करते रहे और आख़िरकार अपने प्रयास में सफल हुए। रिचर्ड ब्राउनिंग  का कहना है की इंसान का दिमाग और शरीर अगर साथ मिलकर काम करें तो इंसान कुछ भी बना सकता है। उनके अनुसार सूट में ईंजन की पावर बढ़ाकर फ्लाइट सूट के जरिए व्यक्ति को और ज्यादा ऊंचाई और तेजी से उड़ाया जा सकता है ।
आज विज्ञान द्वारा बहुत सी चीज़ें जो कभी केवल कल्पना हुआ करती थी उसे हक़ीक़त में बदल दिया है। वैज्ञानिकों द्वारा किये जा रहे नित नए प्रयोगों से इंसान की कल्पनाओं को साकार किया जा रहा है।  बढ़ती टेक्नोलॉजी से इंसान की ज़िन्दगी में बदलाव आये हैं।  भविष्य में आने वाला समय अद्भुत टेक्नोलॉजी का होगा।  टेक्नोलॉजी के सही प्रयोग के द्वारा ही विश्व और  मानवता को सुरक्षित किया जा सकता है।  टेक्नोलॉजी का गलत प्रयोग दुनिया को विनाश की और भी ले जा सकता है।  इसलिए किसी भी टेक्नोलॉजी का प्रयोग मानव हित के लिए किया जाये तो ही सही होगा। 

No comments:

Post a Comment