वर्चुअल रियालिटी क्या है ? WHAT IS VIRTUAL REALITY ? - Nazariya Now

HIGHLIGHTS

Saturday, June 3, 2017

वर्चुअल रियालिटी क्या है ? WHAT IS VIRTUAL REALITY ?

वर्चुअल रियालिटी एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जिसके द्वारा एक काल्पनिक वातावरण को तैयार किया जाता है। इसमें ब्यक्ति को यह महसूस होता है कि वो उस जगह मौजूद है।  उदाहरण के तौर पर अगर हम कोई फिल्म देख रहे हैं या कंप्यूटर/मोबाइल पर पर गेम खेल रहें हैं तो इस टेक्नोलॉजी के ज़रिये वो खुद को उस गेम का हिस्सा महसूस करता है।  व्यक्ति को ऐसा महसूस होता की वो वास्तिवकता में वह मौजूद है।  इसी तरह फिल्म देखते वक़्त महसूस होता है की व्यक्ति वास्तविकता में उस जगह मौजूद हैं।  वर्चुअल रियलिटी में आप हेडसेट लगाकर मोबाइल पर या स्टूडियो में ऐसा अनुभव करते हैं की जो दृश्य आप  देख रहे हैं उस स्थान पर वास्तव में मौजूद हैं। 



वर्चुअल रियलिटी में वर्चुअल का मतलब आभासी निकटता से है, जबकि रियलिटी वो अनुभव है जिसे महसूस किया जाता है।  सरल शब्दों में वर्चुअल रियलिटी का मतलब उस काल्पनिक वातावरण से लगाया जा सकता है जिसे वास्तविकता रूप से महसूस किया सकता है।  वर्चुअल रियलिटी एक विशेष टेक्नोलॉजी द्वारा बनाया गया एक तरह का त्रिआयामी (3D) बनावटी माहौल है, देखने वाला व्यक्ति न केवल वास्तविक माहौल को महसूस करता है, बल्कि इसे काफी हद तक स्वीकारता भी है।  वर्चुअल रियलिटी में शरीर की पांच इंद्रियों में से केवल दो इंद्रियां, आंख और कान ही पूरे माहौल का अनुभव करवाती है, जिससे हम दिल-दिमाग से काफी संभावनाओं के साथ जल्द जुड़ जाते हैं।  इसका साधारण व सरल रूप 3डी इमेज या वीडियो हैं. इन्हें कंप्यूटर पर की-बोर्ड या माउस के द्वारा मनचाहे ढंग से संचालित किया जा सकता है। तसवीरें को अलग अलग दिशाओं में ले जाकर या बड़ी या फिर छोटी करके देखी जा सकता है।  इस तरह से बनने वाले वातावरण को बंद कमरे या घिरी हुई स्क्रीन या फिर पूरी तरह से  लिपटे हुए हैप्टिक्स उपकरणों में देखा जा सकता है।  यही उपकरण में हेडसेट कहलाता है।  वर्चुअल रियालिटी  का अनुभव लेने के लिए VR हेडसेट का उपयोग किया जाता है। वीआर हेडसेट का सिद्धांत कंप्यूटर सिमुलेटेड रियलिटी या इमर्सिव मल्टीमीडिया का विकसित रूप है, जिसकी परिकल्पना वर्ष 1938 में एंटोनियो आर्तोद ने की थी।  कुछ समय बाद लेखक डेमिन ब्रोड्रिक ने इस टर्म का उपयोग 1982 में प्रकाशित अपने विज्ञानकथा वाले एक उपन्यास में किया था, जिसे आॅक्सफोर्ड डिक्शनरी में वर्ष 1987 में शामिल कर लिया गया था।  वीआर हेडसेट हेड-माउंटेड डिस्प्ले (एचएमडी) है, एक तरह से यह चश्मे की तरह ही होता है।  हेडसेट में आंखों के लिए एक अलग माॅनिटर हाता है, जिससे स्टीरियोस्कोपिक प्रभाव बनता है और देखनेवाले को यह महसूस होता है कि वह आभासी माहौल में वास्तविक तौर पर मौजूद है।  साउंड और वीडियो के होने के कारण पूरी तरह वास्तविकता का अहसास होता है। 

वर्चुअल रियालिटी का उपयोग लगातार बढ़ रहा है।  वर्तमान में इसका अधिकतर उपयोग मनोरंजन के लिए फिल्म, गेम्स, आदि के लिए अधिक हो रहा है।  मनोरंजन के अलावा भी इसके कई फायदे भी हैं।  शिक्षा और चिकित्सा के क्षेत्र में वर्चुअल रियालिटी की बहुत ही महत्वूर्ण भूमिका हो सकती है। 

No comments:

Post a Comment