इंटरव्यू : एक खास मुलाक़ात कॉमिक्स आर्टिस्ट बिस्वजीत रॉय जी के साथ - An Exclusive Interview with Artist Biswajeet Roy - Nazariya Now

HIGHLIGHTS

Friday, February 9, 2018

इंटरव्यू : एक खास मुलाक़ात कॉमिक्स आर्टिस्ट बिस्वजीत रॉय जी के साथ - An Exclusive Interview with Artist Biswajeet Roy

कॉमिक्स कलाकारों / लेखकों / प्रकाशकों के इंटरव्यू की विशेष श्रंखला में आज एक खास इंटरव्यू में हम आपको रूबरू करवा रहे हैं कॉमिक्स आर्टिस्ट बिस्वजीत रॉय जी से।  बिस्वजीत जी ने अपने टैलेंट और मेहनत से कम वक़्त में ही  कॉमिक्स इंडस्ट्री में अपनी  पहचान बनाई है।  बिस्वजीत जी ने अपने कॅरियर की शुरुआत रेड स्ट्रीक पब्लिकेशन के साथ की, उनकी शुरूआती दोनों कॉमिक्स में उनके काम (आर्ट) को काफी पसंद किया। आइये बिस्वजीत जी से उनसे कॉमिक्स फैन से प्रोफेशनल कॉमिक्स आर्टिस्ट बनने के सफर के बारे में जानते हैं।




बिस्वजीत जी इस विशेष इंटरव्यू में आपका स्वागत है।

सवाल 1 : अपने जीवन के अब तक के सफर के बारे में बताएं ।
जवाब : सबसे पहले तो इस इंटरव्यू के लिए धन्यवाद शहाब जी।  मैं एक बहुत ही सरल परिवार से Belong करता हूँ।  अभी तक काफी उतार चढ़ाव से गुज़र चूका हूँ, कई सारी अनुभूतियाँ चाहे वो खट्टी, नमकीन, कड़वी या या मीठी हों, अनुभव कर चूका हूँ, सब मिलाकर ज़िन्दगी के सफर का भरपूर उपयोग करने की कोशिश में लगा हूँ, चाहे जैसी भी स्थिति हो।
सवाल 2 : ड्राइंग के अलावा आपके और क्या-क्या शौक हैं ?
जवाब : ड्राइंग के अलावा संगीत सुनना, पीसी गेम्स में भी मेरी बहुत दिलचस्पी है और घूमना भी पसंद है।

सवाल 3 : कॉमिक्स के प्रति अपने जूनून के बारे में कुछ बताएं।
जवाब : मेरी ज़िन्दगी की पहली कॉमिक्स ''नागराज और ताजमहल की चोरी'' ''अग्निपुत्र अभय और डेथहोल'' उसके बाद ''उड़न तश्तरी के बंधक'', ''नागराज और लाल मौत'', फैंटम, सुपरमैन, विध्वंस, जम्बू आदि आज तक पड़ रहा हूँ, पब्लिशर चाहे कोई भी हो कॉमिक्स पड़ने से मतलब है।  आशा है इससे आप कॉमिक्स के प्रति मेरे जूनून को समझ सकेंगे।  


सवाल 4 : आपके परिवार और दोस्तों की आपके काम पर क्या राय रहती है और उनसे कितना सहयोग
मिलता है ?
 जवाब : कुछ बुद्धजीवियों को छोड़कर परिवार और दोस्तों का सहयोग भरपूर मिला है मुझे स्पेशली मेरी माताजी और मामाजी का।

सवाल 5 : अपनी पसंदीदा कॉमिक्स, लेखक, आर्टिस्ट और कॉमिक करैक्टर कौन हैं ?
जवाब : लिस्ट बहुत लम्बी है, गिने चुने में राज कॉमिक्स, मार्वल, डीसी , एक्स-मैन, डायमंड कॉमिक्स, तुलसी, मनोज आदि। 
लेखक में अनुपम सिन्हा, सचिन सचदेव, स्टेन ली, प्राण जी, तुलसी और मनोज कॉमिक्स के राइटर्स।
आर्टिस्ट : धीरज जी, अनुपम जी,   Jim Lee, Sean Galloway, Eddie Nunej, Jorge Jimenez, Stan Lee आदि 
कॉमिक्स करैक्टर : नागराज, ध्रुव, डोगा, परमाणु, विध्वंस, जम्बू, अंगारा, फैंटम, All X-Men , चाचा चौधरी, बिल्लू, पिंकी, रमन, मोटू पतलू, फौलादी सिंह आदि।

सवाल 6 : आप अपने जीवन में सबसे ज़्यादा किससे प्रभावित है और किसे अपना रोल मॉडल मानते हैं ?
जवाब : नेताजी सुभाष चंद्र बोस और स्वामी विवेकानंद जी से बहुत प्रभावित हूँ, स्वामी विवेकानद जी मेरे रोल मॉडल हैं।  

सवाल 7 : आपका पसंदीदा स्पोर्ट, फिल्म, बॉलीवुड / हॉलीवुड कलाकार कौन है ?
जवाब : बैडमिंटन, टेबल टेनिस और क्रिकेट।  फिल्म : भाई इस की लिस्ट काफी लम्बी है कभी मिला तो ज़रूर बताऊंगा, इस पर पर्शियलिटी नहीं कर पाउँगा।  एक्टर : देव आनंद, राजेश खन्ना, अमिताभ बच्चन, विनोद मेहरा, विनोद खन्ना, महमूद, विद्युत जामवाल, शहीद कपूर, गोविंदा, सोनू सूद, जॉनी लीवर, इरफ़ान खान, मुकेश खन्ना, मिलिंद सुमन।   हॉलीवुड से : Sylvester Stallons, Arnold, Vin Diesel, John Dwanson  और भी कई हैं फेवरिट लिस्ट पर सबके नाम लूँ तो काफी समय लग जायेगा।

सवाल 8 : भारत में कॉमिक्स के भविष्य के बारे बारे में क्या सोचते हैं ?
जवाब : इस मामले में मेरी स्थिति डांवाडोल है, अभी तक जितना सुना, देखा या पड़ा है 80 और 90 के दशक के रीडर्स मुहिम  छेड़े हुए हैं कॉमिक्स को बचाने में।  मेरे टाउन में तो ऐसा लगता है सिर्फ मैं ही बचा हुआ हूँ जो कॉमिक्स पड़ता है और अभी तो आलम ऐसा है की डीसी / मार्वल / राज कॉमिक्स / चम्पक का चेहरा दिखता ही नहीं, लेकिन जब भी में अपने होमटाउन से निकलता हूँ गुवाहाटी या उससे आगे तो कुछ कॉमिक्स खरीद ही लेता हूँ।  बेहतर होगा अगर हम भी टेक्नोलॉजी के साथ बढ़ें, आज Paperless Transaction पर ज़ोर दिया जा रहा है, तो मेरे हिसाब से कॉमिक्स इंडस्ट्री को हार्ड कॉपी के साथ सॉफ्ट कॉपी को भी यूज़ करना चाहिए मतलब ई-कॉमिक्स या वेब सीरीज से है, उदाहरण के तौर पर पेपर कॉमिक्स Rs.  180 - 200 में बिक रही है तो वही ई-कॉमिक्स 80 - 100 में बिक जाये।  ये सिर्फ मेरा विचार है बाक़ी बहुत कुछ मार्किट रिसर्च पर निर्भर करता है।  

सवाल 9 : आपके हिसाब से एक अच्छी कॉमिक्स के क्या मापदण्ड हैं ?
जवाब :  स्टोरी, आर्ट, कलरिंग और रेट,  और इन सबसे ज़्यादा सही सोशल और विसुअल मार्केटिंग।

सवाल 10 : वर्तमान में आप किन कॉमिक्स प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे हैं ?
जवाब :  फिलहाल तो किसी प्रोजेक्ट पर काम नहीं कर रहा।
http://amzn.to/2FzHoAdhttp://amzn.to/2FzstWr




सवाल 11 : रेड स्ट्रीक पब्लिकेशन के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?
जवाब : 5th क्लास से मेरा सपना था कॉमिक्स बनाऊं, सपना राज कॉमिक्स में जाने का था फिर एक समय ऐसा आया की लगा ड्राइंग छोड़ दूंगा क्योंकि कॅरियर की लकीर ड्राइंग के साइड से मिट सी गई थी, ठीक उसी समय ''रेड स्ट्रीक पब्लिकेशन'' ने डूबता हुए को वो तिनके का सहारा दिया जिससे आज मुझे मेरे बचपन की चाहत को पूरा करने का अवसर प्राप्त हुआ।  इसके लिए मैं अभिषेक बोस जी का बहुत आभारी हूँ, कारण ये है की उन्होंने अपने पब्लिकेशन में एक फ्रेशर को चुनकर बहुत बड़ा रिस्क लिया और में उनके एक्सपेक्टेशन पर खरा उतर पाया या नहीं ये मिलकर उनसे पूछना बाक़ी है।  मैंने ''रेड स्ट्रीक पब्लिकेशन'' के बैनर तले 2 इश्यु पर काम किया है फिर कुछ पर्सनल और प्रोफेशनल दबाव के कारण बीच में उनका साथ छोड़ना पड़ा।  अभी फिलहाल में टेक्निकली अपने आपको तराशने में लगा हूँ, मेरा साथ ''रेड स्ट्रीक पब्लिकेशन'' के साथ हमेशा रहेगा।  

अनुभव की बात करुं तो ज़िन्दगी के हसीन लम्हों में से एक है ''रेड स्ट्रेड पब्लिकेशन'' में काम करना, कारण ये है की ''अधीश'' (रेड स्ट्रीक पब्लिकेशन कॉमिक्स करैक्टर) को बनाते बनाते वक़्त करैक्टर से ज़्यादा दोस्त बन चूका था, एक तरह से उसकी लाइफ को भी हमने फील किया फिर काग़ज़ पर उतारा।  ''रेड स्ट्रीक पब्लिकेशन'' टीम ने भी बहुत मेहनत की है और सबकी मेहनत क़ाबिले तारीफ है, कारण सभी फ्रेशर थे लेकिन फिर भी अपने अपने रोल को दायित्व के साथ निभाया।  टीम के मेंबर अलग अलग शहरों से थे रेड स्ट्रीक पब्लिकेशन के कारण हम सब दोस्त बन गए, अब दिल में एक तमन्ना सबसे आमने सामने मुलाक़ात हो। 


सवाल 12 : कॉमिक्स से जुड़ी आपके जीवन की कोई मज़ेदार घटना जिसे सोचकर आपके चेहरे पर मुस्कान आ जाती हो
जवाब : हाँ ! राज कॉमिक्स के लिए मैंने एक फैन मेड कॉमिक्स बनाई थी उसे जब भी देखता हूँ तो चेहरे पर मुस्कान आ जाती है इतना घटिया और वीक स्टोरी मैंने क्या सोचकर बनाई थी 


सवाल 13 : भारतीय कॉमिक्स और विदेशी कॉमिक्स में तुलना करने पर आप क्या अन्तर पाते हैं ?
जवाब : उनके करैक्टर कॉमिक्स के पन्नो से निकलकर बड़े पर्दे पर आ गए और हमारे कॉमिक्स करैक्टर अभी तक गुम क्यों हैं ?


सवाल 14 : अब तक का अपना सबसे चुनौतीपूर्ण और सर्वश्रेष्ठ काम (आर्ट) किसे मानते हैं ?
जवाब :अधीश ( रेड स्ट्रीक पुब्लिकेशन) का पहला इश्यु और सर्वश्रेष्ट ?????

सवाल 15 : आपके आगामी प्रोजेक्ट्स के बारे में कुछ बताएं ?
जवाब : फिलहाल टाइम मैनेजमेंट का पंगा है इसलिए अभी किसी प्रोजेक्ट से जुड़ा हुआ नहीं हूँ।

सवाल 16 : अंत में कॉमिक्स फैंस को क्या संदेश देना चाहेंगे?
जवाब : बस इतना ही कहूंगा की चाहे कोई भी कॉमिक्स हो आलोचना या नेगेटिव कमेंट करने से पहले एक बार ज़रूर सोच लें की एक पेज को बनाने के पीछे कई घंटों की मेहनत और एकाग्रता, जुडी होती है।  कोई भी जान बूझकर ख़राब कॉमिक्स नहीं बनाता।  फीडबैक और क्रिटिस्म में दिन रात का  अंतर होता है।  हो सके तो कोशिश करते रहें आज की जनरेशन को मोबाइल, टीवी से थोड़ा दूर करके किताबों की तरफ थोड़ा झुकाया जाये, चाहे वो कॉमिक्स, नॉवेल ई-बुक्स हो।  कॉमिक्स के जूनून को बनाये रखें और मिलकर उसे आगे बढ़ाने की कोशिश बरक़रार रखें।
शहाब जी आपको दिल से धन्यवाद मुझे अपने विचारों को व्यक्त करने का मौक़ा आपने दिया।  आशा है मेरे उत्तरों से किसी को मानसिक ठेस नहीं पहुंचेगी।

बिस्वजीत जी अपने क़ीमती वक़्त से हमारे इंटरव्यू के लिए वक़्त देने के लिए आपका बहुत शुक्रिया।  इस इंटरव्यू के माध्यम से हमें आपको और आपके काम के बारे में जानने का मौक़ा मिला। हम उम्मीद करते हैं भविष्य में भी आप लगातार कॉमिक्स इंडस्ट्री में अपना महत्वपूर्ण योगदान देते रहेंगे और हमें आपके द्वारा निर्मित  बेहतरीन कॉमिक्स पड़ने को मिलेंगी।   भविष्य के लिए हमारी  हार्दिक  शुभकामनायें. 



 शहाब ख़ान  
©Nazariya Now

No comments:

Post a Comment